पद्म श्री सम्मानित वैज्ञानिक एवं पूर्व राष्ट्रपति कलाम के सहयोगी डॉ मानस वर्मा का निधन

दरभंगा 4 मई  देश में बनने वाले सुपरसोनिक लड़ाकू विमान ‘तेजस’ में अहम किरदार निभाने वाले पद्मश्री डॉ. मानस बिहारी वर्मा का सोमवार देर रात दरभंगा के लहेरियासराय स्थित उनके आवास पर हार्ट अटैक से निधन हो गया।

जानकारी के मुताबिक डॉ. मानस बिहारी वर्मा का सोमवार की रात तकरीबन 11.45 बजे लहेरियासराय के केएम टैंक स्थित आवास पर हार्ट अटैक होने से निधन हो गया। अभी हाल में वो केएम टैंक मोहल्ले में एक किराए के मकान में रह रहे थे।  उनके निधन की खबर मिलते ही बड़ी संख्या में लोग केएम टैंक स्थित उनके आवास पर पहुंचने लगे हैं।  उनका अंतिम संस्कार बाऊर में ही किया जाएगा.

डीआरडीओ, बेंगलुरु में रक्षा वैज्ञानिक रह चुके डॉ. वर्मा पूर्व राष्ट्रपति कलाम के सहयोगी रह चुके हैं।

डॉ. वर्मा दरभंगा जिला के घनश्यामपुर प्रखंड के बाऊर गांव के रहने वाले थे। 

डॉ.वर्मा भी पूर्व राष्ट्रपति कलाम की तरह  अविवाहित थे। 

बता दें डॉ वर्मा का जन्म 29 जुलाई 1943 को दरभंगा जिले, बिहार में स्थित घनश्यामपुर ब्लॉक के बाऊर गाँव में यशोदा देवी और आनंद किशोर लाल दास के यहाँ हुआ था। उसके तीन भाई और चार बहनें हैं।उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा मधेपुर के जवाहर हाई स्कूल से पूरी की। बाद में, उन्होंने राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान , पटना और कलकत्ता विश्वविद्यालय में अध्ययन किया।

विज्ञापन

उन्होंने 35 वर्षों तक वैमानिकी धारा में रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (DRDO) में एक वैज्ञानिक के रूप में काम किया। उन्होंने बैंगलोर, नई दिल्ली और कोरापुट में स्थापित विभिन्न वैमानिकी विभागों में काम किया। बाद में, उन्हें तेजस विमान यांत्रिक प्रणाली के डिजाइन के लिए जिम्मेदार बनाया गया था। वह वैमानिक विकास अभिकरण में लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (LCA) की डिजाइन टीम का हिस्सा थे। उन्होंने तेजस विमान के पूर्ण पैमाने पर इंजीनियरिंग विकास के लिए जिम्मेदार टीम का नेतृत्व किया। उन्हें पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा ‘साइंटिस्ट ऑफ द ईयर’ पुरस्कार और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह द्वारा ‘प्रौद्योगिकी नेतृत्व पुरस्कार’ दिया गया था। वह 2005 में एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी के निदेशक के रूप में सेवानिवृत्त हुए।

विज्ञापन

2018 में, भारत सरकार ने उन्हें वैमानिकी इंजीनियरिंग के क्षेत्र में उनके अनुकरणीय योगदान के लिए पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया था ।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button




जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Close
Close

Website Design By Newsabc